कृषि कानूनों के खिलाफ TMC के प्रदर्शन से फंसी कोविड का टीका ले जा रही वैन, 20 KM डायवर्ट करना पड़ा रास्ता

कृषि कानूनों के खिलाफ TMC के प्रदर्शन से फंसी कोविड का टीका ले जा रही वैन, 20 KM डायवर्ट करना पड़ा रास्ता


सिद्दिकुल्लाह चौधरी (तस्वीर-ANI)

सिद्दिकुल्लाह चौधरी (तस्वीर-ANI)

पश्चिम बंगाल (West Bengal) पुलिस की गाड़ी वैन को सुरक्षा प्रदान कर रही थी. वैन से टीकों (Coronavirus Vaccine) की आपूर्ति बांकुरा और पुरुलिया में की जानी थी.


  • News18Hindi

  • Last Updated:
    January 14, 2021, 7:58 AM IST

बर्धमान (पश्चिम बंगाल). पश्चिम बंगाल (West Bengal) के पूर्बा बर्धमान जिले में नए कृषि कानून के विरोध में प्रदेश के मंत्री सिद्दिकुल्लाह चौधरी के नेतृत्व में प्रदर्शन कर रहे लोगों द्वारा राष्ट्रीय राजमार्ग पर यातायात बाधित किये जाने से बुधवार को कोविड-19 टीके (Coronavirus Vaccine) ले जा रहा एक विशेष वाहन भी फंस गया. सूत्रों ने यह जानकारी दी.

पूर्बा बर्धमान के पुलिस अधीक्षक भास्कर मुखोपाध्याय ने कहा कि कोलकाता को नई दिल्ली से जोड़ने वाले राजमार्ग पर ग्लासी इलाके में प्रदर्शन के कारण जाम की वजह से टीके लेकर जा रही वैन को पांच किलोमीटर तक गांव से होकर दूसरे रास्ते से आगे भेजना पड़ा.

20 किलोमीटर गाड़ी हुई डायवर्ट
उन्होंने कहा कि वाहन की आवाजाही में हुई देरी गांव के रास्ते पांच किलोमीटर की दूरी तय करने में लगे वक्त जितनी ही थी. गैरआधिकारिक सूत्रों ने हालांकि दावा किया कि वाहन को गांव के रास्ते से करीब 20 किलोमीटर तक ले जाने के बाद वापस राष्ट्रीय राजमार्ग पर लाया जा सका.पश्चिम बंगाल पुलिस की गाड़ी वैन को सुरक्षा प्रदान कर रही थी. वैन से टीकों की आपूर्ति बांकुरा और पुरुलिया में की जानी थी.

सूत्रों ने कहा कि कोलकाता में प्रदेश सरकार के टीका केंद्र से रवाना हुई इस वैन ने पूर्बा बर्धमान जिले के स्वास्थ्य कार्यालय में 31 500 टीकों की आपूर्ति की और फिर बांकुरा व पुरुलिया में जीवन रक्षक दवा की आपूर्ति के लिये आगे की यात्रा पर रवाना हुई लेकिन पुलिस द्वारा त्वरित और सुगमतापूर्वक दवा की पहुंच सुनिश्चित करने के लिये बनाए गए ग्रीन कॉरीडोर के बावजूद करीब सुबह 10 बजे प्रदर्शनकारियों के रास्ता बाधित करने से इसे रोकना पड़ा.

राज्य पुस्तकालय सेवा मंत्री चौधरी ने कहा कि उन्हें टीके की वैन की आवाजाही के बारे में जानकारी नहीं थी और उनके संज्ञान में यह बात आते ही उन्होंने रास्ता छोड़ दिया लेकिन तब तक वाहन को दूसरे रास्ते से भेज दिया गया था.






Source link

%d bloggers like this: