कोरोना काल के बीच रेलवे की एक बड़ी उपलब्धि! 8 दिनों में की करीब 2500 करोड़ रुपये की बंपर कमाई | business – News in Hindi

कोरोना काल के बीच रेलवे की एक बड़ी उपलब्धि! 8 दिनों में की करीब 2500 करोड़ रुपये की बंपर कमाई | business – News in Hindi


कोरोना काल के बीच रेलवे की एक बड़ी उपलब्धि! 8 दिनों में की करीब 2500 करोड़ रुपये की बंपर कमाई

कोरोना संकट के बीच रेलवे ने जबरदस्‍त कमाई की है.

भारतीय रेलवे (Indian Railways) की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, साल के 10वें महीने के शुरूआती आठ दिनों में रेलवे ने 18 फीसदी अधिक मालढुलाई की जिससे पिछले साल के मुकाबले 250 करोड रुपये अधिक की कमाई हुई.

अनिल कुमार

कोरोना काल के आपदा को अवसर में बदलने का हुनर रेलवे (Railway) ने ईजाद कर लिया है. महामारी दौर में सीमित यात्री ट्रेनों के संचालन से रेलवे के वित्तीय हालात में जबरदस्त असर पड़ा था. अपनी वित्तीय हालात को दुरूस्त करने के लिए रेलवे ने मालढुलाई पर जोर दिया और होने लगी बंपर कमाई. साल के 10वें महीने के शुरूआती आठ दिनों में रेलवे ने 18 फीसदी अधिक मालढुलाई की जिससे पिछले साल के मुकाबले 250 करोड रुपये अधिक की कमाई हुई.

8 दिनों में रेलवे ने की जबरदस्त कमाई
पटरियों पर यात्री ट्रेनें कम चलने और ट्रेक खाली रहने की वजह से माल ट्रेने सरपट दौड़ रही है. इन माल ट्रेनों की स्पीड और आवाजाही भी पहले की तुलना में ज्यादा बढ़ी है. भारतीय रेलवे द्वारा जारी आंकड़ों के आधार पर रेलवे ने 1 से 8 अक्टूबर तक 2477.07 करोड़ रुपये की मालढुलाई की है. जबकि साल 2019 के इसी समयावधि में मालढुलाई से रेलवे ने 2226.36 करोड़ रुपये का राजस्व कमाया था. पिछले साल के मुकाबले रेलवे ने करीब 10 फीसदी अधिक कमाई की है.पिछले साल के मुकाबले सितंबर 2020 में रेलवे ने की इतनी मालढ़ुलाई

सितंबर 2020 में रेलवे ने 102.12 मिलियन टन सामानों की ढुलाई की. जो पिछले साल के इसी माह के मुकाबले 13.59 मिलियन टन अधिक है. जबकि सितंबर 2019 में 88.53 मिलियन टन सामानों का ट्रांसपोर्टेशन किया गया था. यानी कि सितंबर 2019 के मुकाबले सितंबर 2020 में 15.35 फीसदी अधिक मालढ़ुलाई की गई.

अक्टूबर में इन सामानों का ट्रांसपोर्टेशन किया गया
1-8 अक्टूबर 2020 में कुल 26.14 मिलियन टन सामानों को विभिन्न स्थानों के लिए भारतीय रेलवे ने ट्रांसपोर्ट किया. पिछले साल के इसी समयावधि की तुलना में यह 18 फीसदी अधिक है. 1-8 अक्टूबर 2019 को रेलवे ने 22.1 मिलियन टन सामानों की मालढुलाई की थी, जिसमें सबसे अधिक 11.47 मिलियन टन कोयला, 3.44 मिलियन टन लौह अयस्क, 1.28 मिलियन टन खाद्यान्न, 1.5 मिलियन टन उवर्रक और 1.56 मिलियन टन सीमेंट शामिल हैं.

मालढुलाई से कमाई बढ़ाने के लिए रेलवे अपना रही है यह नीति

ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए भारतीय रेलवे कई आकर्षक छूट भी दे रही है. यहीं नहीं रेलवे पार्सल ट्रेन,समयबद्ध पार्सल ट्रेन और किसान ट्रेने भी चलाई रही है. जीरो बेस्ड टाईम टेबल तैयार जा रहा है जिससे माल ट्रेनों की स्पीड और रेलवे की कमाई दोनों में इजाफा होगा. हरियाणा के दीवाना से बंग्लादेश के बेनापोल तक के लिए पहली बार मांग आधारित सामानों का ट्रांसपोर्टेशन कर रही है. हरियाणा से डेयरी उत्पादों और खाद्यान्नों को बांग्लादेश तक मालढ़ुलाई कर रेलवे 8 अक्टूबर को 24.20 लाख रुपये से अधिक की कमाई की है.





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *