जानें अब कैसी है Rahul Roy की सेहत, बहनोई ने कहा- ‘अभी उन्हें दुआओं की जरूरत है’

जानें अब कैसी है Rahul Roy की सेहत, बहनोई ने कहा- ‘अभी उन्हें दुआओं की जरूरत है’


राहुल रॉय की सेहत में पहले से थोड़ा सुधार नजर आ रहा है (फोटो साभारः Instagram @officialrahulroy)

राहुल रॉय की सेहत में पहले से थोड़ा सुधार नजर आ रहा है (फोटो साभारः Instagram @officialrahulroy)

अभिनेता राहुल रॉय (Rahul Roy) इस वक्त मुंबई के नानावटी अस्पताल में भर्ती हैं, जहां उनका इलाज चल रहा है. हाल ही में 52 साल के राहुल रॉय को करगिल (Kargil) में एक फिल्म की शूटिंग के दौरान अचानक ब्रेन स्ट्रोक (Brain Stroke) हुआ था.


  • News18Hindi

  • Last Updated:
    December 2, 2020, 12:32 PM IST

नई दिल्ली. बॉलीवुड के मशहूर अभिनेता राहुल रॉय (Rahul Roy) इस वक्त मुंबई के नानावटी अस्पताल में भर्ती हैं, जहां उनका इलाज चल रहा है. हाल ही में 52 साल के राहुल रॉय को करगिल (Kargil) में एक फिल्म की शूटिंग के दौरान अचानक ब्रेन स्ट्रोक (Brain Stroke) हुआ था, जिसके बाद उन्हें एयरलिफ्ट करके करगिल से मुंबई लाया गया. मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो अब उनकी हालत में पहले से थोड़ा सुधार है, लेकिन ब्रेन स्ट्रोक की वजह से उन्हें अफेजिया नाम की बीमारी हो गई है.

सुधर रही है राहुल की सेहत
बता दें कि अफेजिया एक ऐसी स्थिति है जो व्यक्ति के संचार करने यानी कम्यूनिकेशन की शक्ति को छीन लेती है. इतना ही नहीं अफेजिया होने पर व्यक्ति की लिखने, बोलने और समझने की शक्ति भी प्रभावित हो जाती है. अफेजिया इसके चलते अब राहुल को बोलने में दिक्कत हो रही है. वह सही तरीके से सेंटेंस भी नहीं बना पा रहे हैं. दैनिक भास्कर में प्रकाशित एक खबर के अनुसार मंगलवार को राहुल के बहनोई रोमीर सेन ने बताया कि वह राहुल के हेल्थ के बारे में अभी जानकारी तो नहीं दे सकते, लेकिन राहुल धीरे-धीरे रिकवर कर रहे हैं. उन पर दवाइयों का असर हो रहा है.

रोमीर ने बताया कि वह जल्द ही इस मुश्किल घड़ी से बाहर निकल जाएंगे, लेकिन फिर भी इस वक्त उन्हें दुआओं की बहुत जरूरत है. बता दें, इस वक्त राहुल जिस बीमारी अफेजिया से जूझ रहे हैं, उसके लक्षण सिर में चोट लगने के बाद देखने को मिलती है, हालांकि यह धीरे-धीरे फैलने वाले ब्रेन ट्यूमर या किसी ऐसी बीमारी की वजह से भी हो सकता है जो मस्तिष्क को स्थायी नुकसान पहुंचाता है. अफेजिया की गंभीरता कई बातों पर निर्भर करती है, जिसमें इसके होने का कारण और इसकी वजह से किस हद तक मस्तिष्क को नुकसान पहुंचा है, जैसी बातें शामिल हैं.





Source link

%d bloggers like this: