जुबानी जंग के बीच राज्यपाल धनखड़ को नववर्ष की शुभकामनाएं देने पहुंची सीएम ममता

जुबानी जंग के बीच राज्यपाल धनखड़ को नववर्ष की शुभकामनाएं देने पहुंची सीएम ममता


राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने मुलाकात की तस्वीर शेयर की है. (फोटो: Twitter/@jdhankhar1)

राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने मुलाकात की तस्वीर शेयर की है. (फोटो: Twitter/@jdhankhar1)

राज्यपाल जगदीप धनखड़ (Jagdeep Dhankhar) लगातार मुख्यमंत्री की आलोचना कर रहे हैं. इसी के चलते तृणमूल कांग्रेस (TMC) और राज्यपाल धनखड़ के बीच बयानबाजी होती रहती है. सरकार ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से राज्यपाल हटाने तक की मांग कर दी है.


  • News18Hindi

  • Last Updated:
    January 7, 2021, 12:21 PM IST

कोलकाता. पश्चिम बंगाल (West Bengal) की राजनीति में रोज कुछ नया देखने को मिल रहा है. ऐसा ही हुआ जब बीते बुधवार को शाम में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee), राज्यपाल जगदीप धनखड़ से मुलाकात करने पहुंच गईं. खास बात है कि दोनों के बीच काफी समय से सोशल मीडिया (Social Media) और खुले मंचों से जुबानी जंग जारी है. ऐसे में इस मुलाकात को जानकार आश्चर्य मान रहे हैं. हालांकि, अधिकारियों ने जानकारी दी है कि दोनों के बीच यह शिष्टाचार मुलाकात थी.

राज्यपाल धनखड़ ने भी मुलाकात की तस्वीर को ट्विटर पर शेयर किया है. उन्होंने लिखा ‘मैंने और श्रीमती सुदेश धनखड़ ने माननीय मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का आज राजभवन में स्वागत किया.’ वहीं, सीएम बनर्जी राज्य सचिवालय नबन्ना से राजभवन पहुंची थीं. सचिवालय के एक मुख्य अधिकारी के अनुसार, इस मुलाकात में कुछ भी आधिकारिक नहीं हैं. सीएम, राज्यपाल को नववर्ष की शुभकामनाएं देना चाहतीं थीं.

गौरतलब है कि राज्यपाल लगातार मुख्यमंत्री की आलोचना कर रहे हैं. इसी के चलते तृणमूल कांग्रेस और राज्यपाल धनखड़ के बीच बयानबाजी होती रहती है. टीएमसी ने कई बार राज्यपाल पर राजनीतिक भूमिका निभाने और अपने संवैधानिक पद की सीमा से आगे जाकर काम करने के आरोप लगाए हैं. बुधवार को भी टीएमसी सांसद काकोली घोष ने राज्यपाल पर निशाना साधा था.

उन्होंने कहा ‘राज्यपाल का एक पद होता है और उन्हें सामान्य रहना चाहिए. उन्हें सरकार का नजरिया साझा करना चाहिए.’ घोष ने बीजेपी की तरफदारी के भी आरोप लगाए हैं. उन्होंने कहा ‘वे एकतरफा हो गए हैं और राजभवन को बीजेपी के पार्टी दफ्तर में बदल दिया है.’

सत्तारूढ़ पार्टी और राज्यपाल को बीच तनातनी का आलम यह है कि सरकार ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से राज्यपाल हटाने तक की मांग कर दी है. घोष ने कहा ‘हमने उन्हें हटाए जाने की मांग की है और राष्ट्रपति से दखल देने के लिए कहा है. हमने उन्हें पत्र भेजा है.’ सांसद ने कहा ‘ये राज्यपाल बंगाल को बर्बाद करना चाहता है, जैसे बीजेपी पूरे देश के साथ कर रही है. लेकिन वे कभी भी बंगाल की परंपराओं के साथ ऐसा नहीं कर पाएंगे.’






Source link

%d bloggers like this: