राजस्थान में बर्ड फ्लू से और 443 पक्षियों की मौत, अब तक 10 राज्यों में फैला संक्रमण

राजस्थान में बर्ड फ्लू से और 443 पक्षियों की मौत, अब तक 10 राज्यों में फैला संक्रमण


बर्ड फ्लू से एहतियात के तौर पर सरकार ने बड़ा फैसला लिया है (File)

बर्ड फ्लू से एहतियात के तौर पर सरकार ने बड़ा फैसला लिया है (File)

Bird Flu Outbreak in India: पशुपालन विभाग (Animal Husbandry Department) की रिपोर्ट के अनुसार राजस्थान (Rajasthan) में बुधवार को 296 कौए, 34 कबूतर, 16 मौर और 97 अन्य पक्षियों की मौत हो गई. रिपोर्ट के मुताबिक 25 दिसंबर से अब तक राज्य में 4,390 पक्षियों की मौत हो चुकी है.


  • News18Hindi

  • Last Updated:
    January 14, 2021, 8:50 AM IST

Bird Flu Outbreak in India: राजस्थान (Rajasthan) में बुधवार को 443 और पक्षियों की मौत हो गई. राज्य के 33 जिलों में से 16 जिले बर्ड फ्लू (Bird Flu) संक्रमण से प्रभावित है. जांच के लिए भेजे गए 251 नमूनों में से 62 नमूनों में संक्रमण पाया गया है. पशुपालन विभाग (Animal Husbandry Department) की रिपोर्ट के अनुसार बुधवार को 296 कौए, 34 कबूतर, 16 मौर और 97 अन्य पक्षियों की मौत हो गई. रिपोर्ट के मुताबिक 25 दिसंबर से अब तक राज्य में 4,390 पक्षियों की मौत हो चुकी है.

विभाग के अधिकारियों ने बताया कि राज्य के पोल्ट्री फार्म बर्ड फ्लू संक्रमण से अब तक सुरक्षित है. पिछले कुछ दिनों में विभाग ने कोटा, बूंदी और झालावाड़़ पोल्ट्री फार्म के नमूनों को जांच लिए भेजा था और रिपोर्ट में नमूनों में संक्रमण नहीं पाया गया. उदयपुर जिला भी सुरक्षित है क्योंकि वहां अभी तक मृत पक्षी नहीं पाए गए हैं.

देश में क्‍या है बर्ड फ्लू की स्थिति, केंद्र सरकार ने जारी की एडवाइजरी :-

केंद्र ने मंगलवार को कहा कि उसने बर्ड फ्लू के सिलसिले में जांच नियमों को लेकर राज्यों को परामर्श जारी किया है और उनसे पक्षियों का मारने के लिए पीपीई किट और अन्य जरूरी उपकरणों का पर्याप्त स्टॉक बनाये रखने को भी कहा है.

अभी तक दस राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों- दिल्ली, महाराष्ट्र, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, केरल , राजस्थान, मध्यप्रदेश, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा और गुजरात में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई. इसके अलावा केंद्र सरकार ने कहा कि अब तक 10 राज्यों में बर्ड फ्लू प्रकोप की पुष्टि हो चुकी है.

सरकार ने इसकी रोकथाम के लिए तमाम कदम उठाने के बीच राज्यों से मुर्गा मंडियों को बंद नहीं करने अथवा कुक्कुट उत्पादों की बिक्री प्रतिबंधित नहीं करने को भी कहा क्योंकि मानव में बर्ड फ्लू संचरण की कोई वैज्ञानिक रिपोर्ट सामने नहीं आई है.

उत्तरी दिल्ली नगर निगम ने दुकानों और रेस्तराओं के पोल्ट्री या प्रसंस्कृत ‘चिकन’ बेचने तथा रखने पर तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी. निगम के पशु चिकित्सा सेवा विभाग की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि ग्राहकों को अंडा आधारित व्यंजन या पोल्ट्री मांस तथा अन्य संबंधित उत्पाद परोसे जाने पर रेस्तराओं और होटलों के मालिकों को कार्रवाई का सामना करना होगा.

दिल्ली में मृत मिले कौओं और बत्तखों के नमूनों में सोमवार को बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई थी. इसके बाद दिल्ली सरकार ने शहर के बाहर से लाए गए प्रसंस्कृत और पैक चिकन की बिक्री पर रोक लगा दी थी.

उत्तर प्रदेश के कानपुर के प्राणिउद्यान में मृत कौवों और हवासीलों (एक प्रकार की बड़ी बत्तख) में तथा हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले के जागनोली एवं फतेहपुर गांवों में मृत कौवों में एवियन इंफ्लूएंजा की पुष्टि हुई. बयान में कहा गया कि मध्यप्रदेश के झाबुआ में कुक्कुट नमूने में एवियन इंफ्लूएंजा की मंगलवार को पुष्टि हुई.

मुंबई के दो कौवों के नमूनों की जांच में बर्ड फ्लू होने की पुष्टि के मद्देनजर, शहर के नगर निकाय ने पक्षियों की मौत की सूचना देने और उनके अवशेषों के सुरक्षित निपटान को लेकर दिशानिर्देश जारी किए है. बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) ने सोमवार को दिशा-निर्देश जारी करते हुए, नागरिकों से अपील की कि वे पक्षियों की मौत होने पर उसके हेल्पलाइन नंबर 1916 पर संपर्क करें.

केंद्र ने सोमवार को राज्यों से मुर्गा मंडियों को बंद नहीं करने अथवा कुक्कुट उत्पादों की बिक्री प्रतिबंधित नहीं करने को कहा क्योंकि मानव में बर्ड फ्लू संचरण की कोई वैज्ञानिक रिपोर्ट सामने नहीं आई है. हालांकि, देश के 10 राज्यों में बर्ड फ्लू के प्रकोप की पुष्टि हो चुकी है.

पशुपालन मंत्री गिरिराज सिंह ने संवाददातओं से कहा कि मानव में बर्ड फ्लू संचरण की कोई वैज्ञानिक रिपोर्ट नहीं है और ऐसे में उपभोक्ताओं को घबराने की जरूरत नहीं है. उन्होंने दिल्ली समेत सभी राज्य सरकारों से केवल ‘आम धारणा’ के आधार पर मुर्गा मंडियों को बंद नहीं करने अथवा कुक्कुट उत्पादों की बिक्री प्रतिबंधित नहीं करने को भी कहा है. सिंह ने कहा कि प्रभावित क्षेत्रों में पक्षियों को मारे जाने की कार्रवाई जारी है. साथ ही कहा कि देश में बर्ड फ्लू के लिए निवारक टीका उपलब्ध है.

झारखंड के पलामू जिले के हुसैनाबाद प्रखण्ड के दुलहर गांव में मंगलवार को मृत पाये गये पक्षी नीलकंठ का नमूना आज बर्ड फ्लू की आशंका के मद्देनजर जांच के लिए कोलकाता भेज दिया गया. हुसैनाबाद पशुपालन प्रखण्ड के प्रभारी डा सरोज केरकेट्टा ने बताया कि उनकी टीम को प्रारंभिक जांच में नीलकंठ (नीले गरदन वाला एक प्रकार का पक्षी) के शरीर के किसी प्रकार क्षतिग्रस्त होने के साक्ष्य नहीं प्राप्त हुए हैं.






Source link

%d bloggers like this: