राहुल गांधी के बयान पर बीजेपी का हमला, बताया ‘विभाजित मानसिकता वाला’


नई दिल्ली. केरल के वायनाड से कांग्रेस सांसद राहुल गांधी (Rahul Gandhi) के एक बयान पर बीजेपी नेताओं ने हल्ला बोलते हुए उन्हें ‘विभाजित मानसिकता’ वाला व्यक्ति करार दिया है. दरअसल केरल विधानसभा में विपक्ष के नेता रमेश चेन्नीतला के नेतृत्व में आयोजित ‘ऐश्वर्य यात्रा’ के समापन पर राहुल गांधी मंगलवार को केरल में थे और एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, “15 साल उत्तर भारत में सांसद रहने के बाद केरल के वायनाड से संसद पहुंचना, उनके लिए ताजी हवा के झोंके की तरह था.” उन्होंने कहा, “अमेरिका में मैं कुछ छात्रों से बात कर रहा था और मैंने कहा कि केरल जाना मुझे अच्छा लगता है. ये केवल आपके प्यार की वजह से नहीं, बल्कि जिस तरह की राजनीति आप करते हैं. अगर मैं कहूं कि आपकी बुद्धिमत्ता, जिसके जरिए आप राजनीति करते हैं. अब तक मेरे लिए यह सीखने और आनंद उठाने वाला सफर रहा है.”

कांग्रेस सांसद ने आगे कहा, “पहले 15 साल मैं उत्तर भारत से सांसद रहा. ऐसे में मेरे वास्ता दूसरे तरह की राजनीति से पड़ता था. मेरे लिए केरल आना अचानक से एक ताजी हवा की तरह था. यहां के लोग मुद्दों में दिलचस्पी रखते हैं, केवल नाममात्र के लिए नहीं, बल्कि मुद्दे की जड़ तक जाते हैं.” कांग्रेस नेता राहुल गांधी के इस बयान के बाद बीजेपी नेताओं ने उनके खिलाफ ट्विटर पर अभियान छेड़ दिया और उन्हें विभाजित मानसिकता वाला व्यक्ति करार दिया.

केंद्रीय मंत्रियों ने खोला मोर्चा

केंद्रीय शहरी विकास मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने राहुल पर निशाना साधते हुए लिखा, “वो आदमी जो अपनी लोकसभा सीट बचाने के लिए केरल भाग गया, वो उत्तर भारतीयों की बुद्धि पर सवाल उठा रहा है, साथ ही उन लोगों पर भी जिन्होंने पीढ़ियों तक उसके परिवार को वोट दिया. तथ्य ये है कि काम न करने और विकास के अभाव में उसे भागने के लिए मजबूर होना पड़ा.” केंद्रीय मंत्री ने आगे कहा कि अपनी असफलता स्वीकार करने के लिए बजाय वह मतदाताओं की बुद्धिमानी पर सवाल उठाने की कोशिश कर रहा है! ये अहंकार और स्वार्थ का गठजोड़ ही जिम्मेदार है, जिसकी वजह से कांग्रेस की दुर्गति हुई है.दूसरी ओर विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने राहुल गांधी का नाम लिए बिना ट्वीट कर कांग्रेस नेता पर निशाना साधा. उन्होंने कहा, “मैं दक्षिण भारत से हूं. एक सांसद के तौर पर पश्चिमी राज्य का प्रतिनिधि हूं. जन्म, शिक्षा और करियर उत्तर में फला फूला. पूरे विश्व के समक्ष मैं भारत का प्रतिनिधि रहा हूं. भारत एक है. कभी भी किसी क्षेत्र को नीचा मत दिखाओ. कभी भी हमें बांटों मत.”

केंद्रीय मंत्रियों के अलावा बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने भी राहुल गांधी पर हमला बोलते हुए कहा, “कुछ दिन पहले ये उत्तर पूर्व में थे और पश्चिमी भारत के बारे में जहर उगल रहे थे. आज दक्षिण में उत्तर के खिलाफ जहर बो रहे हैं. बांटों और राज करो की नीति नहीं चलेगी राहुल गांधी जी! जनता ने इस राजनीति को खारिज किया है. देखिए गुजरात में क्या हुआ है.”

स्मृति ने कहा- एहसान फरामोश

इन नेताओं के अलावा अमेठी से राहुल गांधी को 2019 के लोकसभा चुनाव में धूल चटाने वाली केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा, “एहसान फरामोश! इनके बारे में तो दुनिया कहती है- थोथा चना बाजे घना.” वहीं, केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद जोशी ने मंगलवार को राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि वह “ट्रैक्टर पर अभिनेता” बनने की कोशिश कर रहे हैं.

उन्होंने चुनावी राज्य के दो विरोधी मोर्चों सत्ताधारी माकपा के नेतृत्व वाले एलडीएफ और विपक्षी कांग्रेस के नेतृत्व वाले यूडीएफ पर निशाना साधते हुए कहा कि वे केरल में “कुश्ती लड़” रहे हैं, लेकिन “दिल्ली में दोस्ती” है. उन्होंने इसे “पाखंड” करार दिया. भाजपा के केरल विधानसभा चुनाव के प्रभारी जोशी ने कहा, “राहुल गांधी ट्रैक्टर पर एक अभिनेता बनने की कोशिश कर रहे हैं.”

2019 में अमेठी से हारे राहुल गांधी

अपने निर्वाचन क्षेत्र में सोमवार को केंद्र के तीन नये कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों के समर्थन में ट्रैक्टर रैली निकालने वाले राहुल गांधी ने कहा था कि कृषि ही एक मात्र कारोबार है जो “भारत माता” से जुड़ा है और लोगों का आह्वान किया कि वे सरकार को तीनों कृषि कानून वापस लेने के लिये “मजबूर” करें.

उत्तर प्रदेश के अमेठी लोकसभा क्षेत्र का 2004 से प्रतिनिधित्व कर रहे राहुल गांधी ने 2019 में अमेठी और केरल के वायनाड सीट से चुनाव लड़ा था. वायनाड सीट से उन्हें जीत मिली, लेकिन अमेठी पर उन्हें बीजेपी की स्मृति ईरानी के हाथों पराजय का सामना करना पड़ा.



Source link

%d bloggers like this: